रविवार, 11 दिसंबर 2011

हास्य कविता

भ्रष्ट्राचार आज आचार बन गया है।
नेताओं का षिष्टाचार बन गया है।
दिन-दुनी रात चैगुनी उन्नति का आधार बन गया है।
जाने क्यों अन्ना इसके खिलाफ हल्ला बोल रहे हैं।
जबकि लाखों बेरोजगारों का यह रोजगार बन गया है।

5 टिप्‍पणियां:

  1. जागृति लाने वाले व्यंग को सलाम।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जबकि लाखों बेरोजगारों का यह रोजगार बन गया है।---यही सच है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने सच कहा है, व्यंग रचना के लिए आपको आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भ्रष्टाचारी कह रहें हैं
    अभी भी संभल जाओ अन्ना,बन जाने दो हमें भी सेठ धन्ना.
    आपका क्या चला जायेगा जी,आप भी चूस लीजियेगा न गन्ना.

    उत्तर देंहटाएं